Home विश्व तालिबान ने जर्मनी के 3 पत्रकारों के घर की ली तलाशी, एक...

तालिबान ने जर्मनी के 3 पत्रकारों के घर की ली तलाशी, एक के परिजनों को मारी गोली

अफगानिस्तान (Afghanistan) में कब्जा करने के बाद तालिबान मीडियाकर्मियों और पत्रकारों को निशान बना रहा है. रॉयटर्स की खबर के मुताबिक, तालिाबान (Taliban) के लड़ाकों ने काबुल में काम कर रहे जर्मन न्यूज चैनल डॉयचे वेले (Deutsche Welle)के एक जर्नलिस्ट के रिश्तेदार की हत्या कर दी है. रिपोर्ट के मुताबिक, तालिबान के लड़ाके अफगानी जर्नलिस्ट की तलाश में घर घुस आए थे. इस दौरान उसके रिश्तेदार को गोली मार दी और दूसरे को जख्मी कर दिया. जर्नलिस्ट के परिवार के बाकी लोग पिछले महीने किसी तरह काबुल से बच निकले थे.

डॉयचे वेले (DW) के डायरेक्टर जनरल पीटर लिमबर्ग का कहना है कि तालिबान की क्रूरता से पता चलता है कि अफगानिस्तान में हमारे कर्मचारी और उनके परिवार कितना खतरा महसूस कर रहे हैं. यह साफ हो गया है कि तालिबान पहले से ही काबुल और दूसरे शहरों में पत्रकारों को तलाश कर उन्हें निशाना बना रहा है. पीटर लिमबर्ग ने इस हत्या की कड़ी निंदा करते हुए जर्मनी की सरकार से कार्रवाई करने का आग्रह किया है.

पीटर लिमबर्ग ने एक बयान जारी कर कहा, ‘हमारे एक संपादक के परिजन की तालिबान ने हत्या कर दी है. यह बताता है कि अफगानिस्तान में हमारे कर्मचारी और उनके परिवार कितने गंभीर खतरे में हैं. यह जाहिर है कि तालिबान संगठित तौर पर काबुल और अन्य प्रांतों में पत्रकारों को तलाश रहे हैं. अब ज्यादा वक्त नहीं है.”

रॉयटर्स की रिपोर्ट में बताया गया है कि तालिबान ने डॉयचे वेले के कम से कम तीन पत्रकारों के घरों की तलाशी ली है. वहीं, एक स्थानीय निजी चैनल गरगश्त टीवी के हेड नेमातुल्लाह हेमात को अगवा कर लिया गया है. सरकारी अधिकारियों के मुताबिक निजी रेडियो स्टेशन पाक्तिया गाग के प्रमुख तूफान उमर को तालिबान ने गोली मार दी.

इससे पहले एक अफगानी अनुवादक अमदादुल्लाह हमदर्द को भी तालिबान ने 12 अगस्त को जलालाबाद में गोली मार दी थी. हमदर्द जर्मनी के अखबार डि त्साइट के लिए नियमित रूप से लिखते थे. पिछले महीने भारत के एक जानेमाने फोटो-पत्रकार पुलित्जर पुरस्कार जीत चुके दानिश सिद्दीकी का कंधार में कत्ल हो गया था. अन्य खबरों के लिए इस लिंक पर क्लिक करें

Exit mobile version