भारत में खुलेगा Gold Exchange! सोने से मिलेंगे कमाई के नए मौके, SEBI ने बनाया ये प्लान

अब आप शेयर बाजार (Share Market) पर गोल्ड में भी कारोबार कर सकेंगे. यानी शेयरों की तरह गोल्ड की भी ट्रेडिंग (Gold Trading) की जा सकेगी. साथ ही सोने की फिजिकल डिलीवरी भी होगी यानी कि सोना भी खरीदा जा सकता है. बहुत जल्द आपके पास गोल्ड में कारोबार का ये विकल्प आ सकता है. दरअसल, शेयर बाजार रेग्युलेटर सेबी (SEBI) ने घरेलू बाजार में गोल्ड एक्सचेंज (Gold Exchange) शुरू करने को लेकर एक प्रस्ताव लेकर आया है. प्रस्ताव के अनुसार पीली धातु का एक्सचेंज में इलेक्ट्रॉनिक गोल्ड रिसीप्ट (EGR) के रूप में कारोबार किया जाएगा. बता दें कि वर्तमान में चीन के शांघाई, हांगकांग और यूके में लंदन, अमेरिका में न्यूयॉर्क दुनिया की सबसे प्रसिद्ध गोल्ड एक्सचेंज हैं.

Get-Detailed-Customised-Astrological-Report-on

गोल्ड एक्सचेंज की होगी शरूआत

सेबी की मानें तो भारत में जल्द ही गोल्ड एक्सचेंज (Gold exchange) की शुरुआत हो सकती है. सेबी ने ड्राफ्ट प्रस्तावों में मुताबिक, नई गोल्ड एक्सचेंज का नाम इलेक्ट्रॉनिक गोल्ड रिसीप्ट (Electronic Gold Receipt) होगा. इससे घरेलू बाजार में Spot price search को अधिक पारदर्शी बनाने में मदद मिलेगी.

जानें आपको कैसे होगा फायदा

Gold exchange से भारत के गोल्ड बाजार को दम मिलेगा. अगर यह प्रस्ताव आता है तो फिजिकल गोल्ड में व्यापार करना आसान हो जाएगा. ज्वेलर्स एक्सचेंज का हिस्सा बन सकते हैं और गोल्ड का ट्रांसफर भी कर सकते हैं. इससे आम निवेशकों और ग्राहकों का भी फायदा होगा. प्रस्ताव के मुताबिक, इलेक्ट्रॉनिक गोल्ड रिसिप्ट्स के तहत सोने को विभिन्न प्रस्तावित मूल्यवर्ग- एक किलोग्राम, 100 ग्राम, 50 ग्राम का होगा और कुछ शर्तों के साथ इन्हें पांच और 10 ग्राम में भी रखा जा सकेगा.

Ask-a-Question-with-our-Expert-Astrologer-min

वित्त मंत्री बजट में दियाा था संकेत

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने वर्ष 2021-22 का बजट पेश करते हुए कहा था कि सेबी गोल्ड एक्सचेंज का नियामक होगा और इस Commodity market ecosystem को स्थापित करने के वास्ते Storage development और नियामकीय प्राधिकरण (डब्ल्यूडीआरए) को मजबूत किया जाएगा. अन्य खबरों के लिए इस लिंक पर क्लिक करें

स्रोतhindi.news18.com
पिछला लेखआज का पंचांग, 18 मई 2021: आज है गंगा सप्तमी और कमला सप्तमी, जानें शुभ और अशुभ समय
अगला लेखGanga Saptami 2021: गंगा सप्तमी आज, पढ़ें मंत्र, आरती, पृथ्वी पर कैसे हुए गंगा, कथा से जानें