शनि की ढैय्या हो या फिर साढ़ेसाती, इन कुछ उपायों को करने से दूर होंगे सारे कष्ट

shani dev

आज ज्येष्ठ कृष्ण पक्ष की उदया तिथि नवमी और शनिवार का दिन है| नवमी तिथि आज सुबह 10 बजकर 23 मिनट तक ही रहेगी| उसके बाद दशमी तिथि लग जायेगी| आज देर रात 2 बजकर 35 मिनट तक वैधृति योग रहेगा| वैधृति योग स्थिर कार्यों हेतु शुभ माना जाता है, परंतु यदि कोई भाग-दौड़ वाला कार्य अथवा यात्रा आदि करनी हो तो इस योग में नहीं करनी चाहिए| वैसे भी कोरोना की वजह से जो स्थिति बनी है उसमे किसी भी प्रकार की यात्रा करना उचित नहीं होगी। साथ ही आज सूर्योदय से लेकर आज ही सुबह 10 बजकर 23 मिनट तक स्थिर योग रहेगा।

यह भी पढ़े: त्योहारों पर कोरोना इफेक्ट / खेरताबाद में घटेगी गणेश प्रतिमा की ऊंचाई, हर साल यहां देश की…

आचार्य इंदु प्रकाश के अनुसार गुरुवार या शनिवार को अगर चतुर्थी, अष्टमी, नवमी, त्रयोदशी या चतुर्दशी तिथि के साथ ही कृतिका, आर्द्रा, आश्लेषा, उत्तराफाल्गुनी, स्वाती, ज्येष्ठा, उत्तराषाढ़ा, शतभिषा या रेवती नक्षत्र का संयोग बन रहा हो, तो स्थिर योग बनता है और आज शनिवार का दिन है, उदया तिथि नवमी है और सुबह 11 बजकर 5 मिनट तक शतभिषा नक्षत्र भी है।

लिहाजा आज स्थिर योग बन रहा है | स्थिर योग के दौरान किसी भी तरह के स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों से छुटकारा पाने के लिये किये गये उपाय बड़े ही कारगर साबित होते हैं | इसके आलावा आज सुबह 10 बजकर 5 मिनट तक शतभिषा नक्षत्र रहेगा | उसके बाद पूर्वा भाद्रपद नक्षत्र शुरू हो जायेगा | इस नक्षत्र के स्वामी देवगुरू बृहस्पति हैं, जबकि पेड़-पौधों में इस नक्षत्र का संबंध आम के पेड़ से है,  अतः जिन लोगों का जन्म पूर्वभाद्रपद नक्षत्र में हुआ हो, उन लोगों को आज के दिन आम के पेड़ को या पेड़ की फोटो को देखकर प्रणाम करना चाहिए और आम का फल कभी नहीं खाना चाहिए। 

आज वैधृति योग, स्थिर योग और पूर्वा भाद्रपद नक्षत्र के संयोग में किये जाने वाले राशिवार उपायों की। इसके आलावा आज शनिवार है लिहाजा आज कुछ खास उपाय करने से आपको शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या के प्रभाव से आराम मिलेगा | 

1- अपनी और अपने परिवार की अच्छी सेहत के लिए आज शनिदेव को स्मरण करके उनके इस मंत्र का जाप करें- ‘ॐ ऐं ह्रीं श्रीं शनैश्चराय नम:’...आज के दिन ऐसा करने से किसी भी प्रकार की स्वास्थ्य संबंधी समस्या से जल्द ही छुटकारा मिलेगा| 

2- अगर आप लगातार सफलता की सीढ़ियां चढ़ना चाहते हैं, तो आज के दिन पूर्वा भाद्रपद नक्षत्र के दौरान आपको आम के पेड़ या उसके फल को प्रणाम करना चाहिए | अगर आम के पेड़ तक जाना संभव नहीं हो, तो आम के चित्र को देखकर ही प्रणाम कर लीजिये | आज के दिन ऐसा करने से आप लगातार सफलता की सीढ़ियां चढ़ते जायेंगे | 

3- अगर आपका मन आपके काम में नहीं लग रहा है, तो इस समस्या से निजात पाने के लिए और अपने कार्यों को बेहतर ढंग से पूरा करने के लिये आज के दिन आप इस मंत्र का 11 बार जप करें | मंत्र है-‘ॐ शन्नोदेवीरभिष्टय आपो भवन्तु पीतये शन्योरभिस्त्रवन्तु न:’

आज के दिन इस मंत्र का 11 बार जप करने से आपका मन कार्यों में लगाने लगेगा और आप अपने कार्यों को बेहतर ढंग से पूरा भी कर पायेंगे | 

4- यदि आप किसी से न्याय पाना चाहते हैं, तो आज के दिन 7 लौंग लेकर शनिदेव को अर्पित करें और हर बार एक लौंग चढ़ाते हुए जिससे आपको न्याय पाना है, उसका नाम लें और फिर शनिदेव का मंत्र पढ़ें | मंत्र इस प्रकार है- ‘ऊँ ऐं ह्रीं श्रीं शनैश्चाराय नमः’ आज के दिन ऐसा करने से आप उस व्यक्ति से न्याय पाने में सफल होंगे | 

5- अगर आप अपने दाम्पत्य जीवन में और खुशियां लाना चाहते है, तो आज के दिन स्नान आदि के बाद शनि देव की विधि-पूर्वक पूजा करनी चाहिए | साथ ही उनके इस मंत्र का 21 बार जप करना चाहिए-‘ऊँ श्रीं ह्रीं शं शनैश्चराय नमः।’ आज के दिन आपको इस मंत्र का 21 बार जप करने से आपके दाम्पत्य जीवन में नई उमंग आएगी| 

यह भी पढ़े: अपरा एकादशी 2020: 18 मई को है ‘अपरा एकादशी’, जानें-विष्णु जी की पूजा का मुहूर्त, विधि…

6- अगर आप हर तरह के सुख-साधनों और आरोग्य की प्राप्ति करना चाहते हैं, तो आज के दिन स्नान आदि के बाद साफ कपड़े पहनकर देवी दुर्गा के इस मंत्र का 11 बार जप करें | मंत्र है –
‘देहि सौभाग्य मारोग्यं देहि मे परमं सुखम्
रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषों जहि ||’

इस मंत्र का 11 बार जप करने के बाद देवी मां को प्रणाम करें | आज के दिन ऐसा करने से आपको हर तरह के सुख-साधनों और आरोग्य की प्राप्ति होगी |

7- यदि आप चाहते हैं कि आपके घर में स्थायी रूप से सुख-समृद्धि बनी रहे, तो इसके लिये आज शनिवार के दिन सरसों के तेल का एक दीपक घर के मुख्य दरवाजे पर जलायें | साथ ही शनिदेव के इस मंत्र का 51 बार जप करें | मंत्र इस प्रकार है-
‘ऊँ प्रां प्रीं प्रौं स: शनैश्चराय नम:’
आज के दिन ऐसा करने से आपके घर में सुख–शांति और समृद्धि बनी रहेगी |
 
8- अगर आप अपने किसी शत्रु से परेशान हैं और उस पर विजय पाना चाहते हैं, तो अपने शत्रु पर विजय पाने के लिये आज के दिन काली उड़द, गुड़ और जौ शनि मंदिर में दान करने का संकल्प लें और जब कोरोना की स्थिति पूरी तरह से नियंत्रण में आ जायें तब आप ये सभी चीजें किसी शनि मंदिर में दान कर दें | आज के दिन ऐसा संकल्प करने से आपको जल्दी ही अपने शत्रु पर विजय प्राप्त होगी |

यह भी पढ़े: वास्तु टिप्स: घर की इस दिशा में कभी ना लगाएं आइना, होगा भारी नुकसान

9- अपनी किसी खास इच्छा की पूर्ति के लिए शनिवार के दिन शाम के समय अपनी लंबाई के बराबर कच्चा सूत लें | अब उस धागे को साफ पानी से धो लें और शनिदेव का स्मरण करते हुए अपनी इच्छा मन में बोलें और उस सूत को अपने मंदिर में रख दें | साथ ही शनि का दान लेने वाले को तेल दान करने का संकल्प करें और जब कोरोना की परिस्तिथियां पूरी तरह ठीक होने पर वह सरसों का तेल दान कर दें | आज के दिन ऐसा संकल्प करने से आपकी सारी मनोकामनाएं पूरी होंगी | 

10-अगर आप अपने आत्मबल और आत्म विश्वास को कायम रखना चाहते हैं, तो आज के दिन आपको घर के ईशान कोण, यानी उत्तर-पूर्व दिशा में देशी घी का दीपक जलाना चाहिए और उसकी लौ को देखते हुए 21 बार ये मंत्र पढ़ना चाहिए | मंत्र इस प्रकार है –  ‘ॐ ग्रां ग्रीं ग्रौं स: बृहस्पतये नम:’ बता दूं कि आज पूर्वा भाद्रपद नक्षत्र है और पूर्वा भाद्रपद नक्षत्र के स्वामी देव गुरु वृहस्पति है लिहाजा आज के दिन ऐसा करने से आपका आत्मबल और आत्मविश्वास यूं ही कायम रहेगा |