Home आध्यात्मिक शनिवार को दान करें ये 5 वस्तुएं, शनिदेव की कृपा से दूर...

शनिवार को दान करें ये 5 वस्तुएं, शनिदेव की कृपा से दूर होंगी सारी परेशानियां

सप्ताह का हर दिन किसी न किसी देवता का प्रिय है. शनिवार का दिन भी न्याय के देवता कहलाने वाले शनिदेव (Shani Dev) का दिन माना जाता है. शास्त्रों में शनिदेव को न्यायाधीश कहा गया है. जिसका अर्थ है न्याय करने वाला. मान्यता है कि मनुष्यों को उनके बुरे कर्मों का फल शनि देव ही देते हैं. कहते हैं कि अगर शनिदेव किसी पर प्रसन्न हो जाते हैं तो उसका जीवन समृद्धि से भर देते हैं, लेकिन अगर वे किसी पर नाराज हो गए तो राजा को भी रंक बनाने में उन्हें देर नहीं लगती है. शनिवार के दिन शनिदेव से जुड़ी कुछ विशेष चीजों का दान कर उन्हें प्रसन्न किया जा सकता है. व्यक्ति शनिदेव क प्रसन्न कर जीवन की परेशानियों से छुटकारा पा सकता है.

शनिवार को इन चीजों का करें दान

काली उड़द और काला तिल

अगर आप धन संबंधी परेशानी से जूझ रहे हैं तो शनिवार को शाम के समय सवा किलो काली उड़द दाल या काला तिल किसी गरीब को दान करें. मान्यता है कि इससे शनि के कारण होने वाली धन संबंधी परेशानी से राहत मिलती है. यह दान कम से कम पांच शनिवार को करना है, इसे दान करते वक्त याद रखना है कि जिस भी शनिवार को आप इनका दान करें उस शनिवार को इन चीजों का खुद सेवन न करें.

लोहे के बर्तन

शनिदेव के प्रकोप को कम करने के लिए जो भी दान किए जाते हैं, उनमें खाना बनाने के लोहे के बर्तनों का खास महत्व माना गया है. शनिवार को किसी गरीब को लोहे के बर्तन दान करने पर दुर्घटना के योग टल
जाते हैं.

सरसों का तेल

शनिदेव के लिए सरसों के तेल का दान काफी अच्छा माना जाता है. अगर शनि की वजह से आपका कोई काम अटका हुआ है या जीवन में सफलता नहीं मिल पा रही है तो सरसों के तेल का दान जरूर करना चाहिए. शनिवार की सुबह लोहे के बर्तन में सरसों का तेल लें और उसमें एक रुपए का सिक्का भी डालें. फिर किसी गरीब को इसे दान कर दें या फिर पीपल के पेड़ के नीचे रख दें.

काले कपड़े और जूते

स्वास्थ्य से जुड़ी कोई परेशानी जिसने की बीमारी का रुप ले लिया है तो ऐसे में काले कपड़ों का दान करना चाहिए. शनिवार की शाम को किसी गरीब को काले कपड़े और जूते दान करने से लाभ मिलता है.

7 तरह के अनाज

शनि दोष का असर कम करना है तो हर शनिवार को 7 तरह के अनाज का दान करना चाहिए. अनाज में गेहूं, मक्का, ज्वार, चावल, चना और काली उड़द को शामिल किया जा सकता है. अन्य खबरों के लिए इस लिंक पर क्लिक करें

Exit mobile version