सेबी ने निवेश सलाहकारों के लिए जारी क‍िए नए द‍िशानिर्देश

भारतीय प्रतिभूति और विनियम बोर्ड (सेबी) ने बुधवार को निवेश सलाहकारों के लिए नए दिशानिर्देश जारी किए हैं. बाजार नियामक के ये दिशानिर्देश 30 सितंबर से लागू होंगे. नए नियमों के अनुसार, नए ग्राहक समूह या परिवार की वितरण या सलाहकार सेवाओं में से किसी एक का लाभ उठा सकते हैं और उन्हें यह विकल्प शामिल करने के समय ही देना होगा. यह फैसला हितों का टकराव न हो, इसलिए किया गया है. इसी के साथ बाजार नियामक ने कहा कि मौजूदा ग्राहकों को भी वितरण और सलाहाकार सेवाओं का फायदा उठाना होगा. दूसरे शब्दों में कहें तो सेबी ने वितरक और निवेश सलाहकार की भूमिका को बदल दिया है. आइए जाने गुरुवार के दिन इस पेड़ की पूजा.

सेबी ने कहा कि निवेश सलाहकार ग्राहकों से एसेट अंडर एडवाइस (एयूए) के 2.5 फीसदी से अधिक फीस नहीं ले सकते. हालांकि, वे फिक्स्ड फीस स्कीम के आधार पर भी शुल्क लगा सकते हैं.

rgyan app

हालांकि, ग्राहक के पास मौजूदा प्रणाली के आधार पर कुछ एसेट हैं, तो उन्हें एयूए के दायरे से बाहर किया जाएगा. दूसरे शब्दों में कहें तो यह फैसला सिर्फ नए एयूए पर लागू होगा. फिक्स्ड फीस स्कीम के तहत वे 1,25,000 प्रति वर्ष से अधिक फीस नहीं ले सकते हैं. और अन्य खबरों के लिए इस लिंक पर क्लिक करें.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here