Sita Navami 2021: सीता नवमी पर पति की लंबी उम्र के लिए सुहागिनें रखती हैं व्रत, जानें पूजा विधि

सनातन संस्कृति में कई त्योहार मनाए जाते हैं. इन्हीं त्योहारों में से एक है जानकी नवमी (Janki Navami) जन्मोत्सव. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार वैशाख माह के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को माता सीता प्रकट हुई थीं. इसीलिए इस दिन को जानकी नवमी के नाम से जाना जाता है. इस दिन सुहागिन महिलाएं अपने पति की लंबी आयु के लिए व्रत (Vrat) रखती हैं और विधि-विधान से पूजा करती हैं. मान्‍यता है कि इस दिन व्रत रखने और पूजा करने से कई तीर्थयात्राओं के समतुल्य फल की प्राप्ति होती है.

Get-Detailed-Customised-Astrological-Report-on

सीता नवमी का शुभ मुहूर्त

जानकी नवमी के दिन पूरे विधि-विधान से भगवान राम और माता-सीता की पूजा की जाती है और व्रत रखा जाता है. इस बार सीता नवमी का शुभ मुहूर्त 20 मई को 12 बजकर, 25 मिनट पर प्रारंभ होगा और 21 मई को 11 बजकर, 10 मिनट पर समाप्त होगा. इस दिन प्रभु श्रीराम और माता सीता का पूजन एक साथ करने से मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं और मनोवांछित फल प्राप्‍त होता है.

इस विधि से करें पूजा

नवमी से एक दिन पहले अष्टमी को स्नान करने के बाद जमीन को लीपने और साफ करने के बाद आम के पत्तों और फूल से सुन्दर मंडप बनाएं. मंडप के बीच में एक चौकी लगाकर इस पर लाल या पीला कपड़ा बिछाएं. अब इसे फूलों से सजाएं. इसके बाद चौकी पर भगवान राम और माता सीता की प्रतिमा स्थापित करें. सीता नवमी के दिन सुबह स्नान के बाद पूजाघर में बैठकर पूजा से पहले श्री राम और माता सीता के नाम का संकल्प पढ़ें. इसके बाद घर के मंदिर में दीपक प्रज्ज्वलित करें और भगवान राम, माता सीता की आरती करें. इसके बाद भगवान राम और माता सीता के नाम का जाप करें और ध्यान लगाएं. इस दिन विधिवत पूजा-अर्चना करने से विशेष फल की प्राप्ति होती है.

Ask-a-Question-with-our-Expert-Astrologer-min

सीता नवमी का महत्व और जानकी नवमी पर पूजा से लाभ

  • मान्‍यता है कि जो भी भक्त जानकी नवमी के दिन सच्चे मन से पूजा-अर्चना करता है उसे मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है.
  • जिन लोगों के जीवन में सुख और शांति की कमी होती है, उन्हें भी जानकी नवमी के दिन व्रत रखने के लिए कहा जाता है.

माता सीता अपने त्याग और समर्पण के लिए पूजनीय हैं. सीता नवमी के दिन सुहागिन महिलाएं अपने पति की लंबी आयु के लिए व्रत रखती हैं. मान्‍यता है कि इससे व्रती की सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं. अन्य खबरों के लिए इस लिंक पर क्लिक करें.

स्रोतhindi.news18.com
पिछला लेखजानिए भारत के इन 5 चमत्कारी मंदिरों के रहस्य के बारे में, देश-दुनिया में हैं प्रसिद्ध
अगला लेखSkin Care Tips: महंगे प्रोडक्‍ट नहीं चेहरे पर निखार लाएंगे होममेड फेसपैक, स्किन संबंधी समस्या से भी मिलेगा छुटकारा