बच्चों को ग्रैंड पैरेंट्स के साथ बिताने दें समय, दोनों को होता है फायदा

पहले के समय में ज्यादातर लोग अपने माता-पिता के साथ ही रहते थे, जिससे बच्चों को दादा-दादी सबका लाड़-प्यार मिलता था। लेकिन आज के समय में काम या फिर कई और वजहों से लोग अलग रहने लगे हैं। दादा-दादी या फिर नाना-नानी के साथ बिताए गए पल बच्चों और ग्रैंड पैरेंट्स दोनों के लिए बहुत खुशनुमा और यादगार होते हैं। जब बच्चा अपने दादा-दादी या नाना-नानी से मिलता है तो चहक उठता है, इसी तरह दादा-दादी को भी एक अलग तरह की खुशी मिलती है। एक साथ समय बिताने से केवल दादा-दादी को ही नहीं बल्कि बच्चों को भी कई फायदे होते हैं तो आइए जानते हैं।

समय के साथ बुजुर्गों में भूलने की समस्या होने लगती है। ऑस्ट्रेलिया में हुई एक स्टडी के अनुसार, जो लोग अपने ग्रैंडकिड्स के साथ कम से कम हफ्ते में एक बार समय बिताते हैं, उनकी याद्दाश्त ज्यादा मजबूत रहती है, क्योंकि वे बच्चों के साथ बिताए टाइम में बच्चों द्वारा उनसे पूछे गए सवालों को याद करने की कोशिश करते हैं। बुजुर्गों में अलजाइमर का खतरा कम हो जाता है। वहीं एक दूसरी रिसर्च के अनुसार पोते पोती के साथ खुशनुमा पल बिताने वाले लोग अकेले रहने वाले बुजुर्गों से ज्यादा लंबा और स्वस्थ जीवन जीते हैं।

rgyan app

आज के समय में पति-पत्नी दोनों ही वर्किंग हैं ऐसे में बच्चा अकेलापन महसूस करता है, इसलिए उसे तनाव की समस्या हो सकती है। अकेले रहने वाले बच्चों में अवसाद की समस्या आज के समय में बहुत ज्यादा देखने को मिलती हैं, लेकिन जो बच्चे अपने ग्रैंड पैरेंटस के साथ समय बिताते हैं, उनमें डिप्रेशन की समस्या कम होती है।

दादा-दादी के साथ समय बिताने वाले बच्चे भावनात्मक रुप से ज्यादा मजबूत होते हैं। ऐसे बच्चे आत्मविश्वास से भरे हुए होते हैं। दादा-दादी के साथ समय बिताने वाला बच्चा अन्य बच्चों के मुकाबले ज्यादा समझदार होता है। ऐसे बच्चों का स्कूल में भी व्यवहार बहुत अच्छा रहता है।

और अन्य खबरों के लिए इस लिंक पर क्लिक करें.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here