Palm Reading : आपकी जीवन रेखा का ऐसा होना ठीक नहीं माना जाता, देखते हैं आपकी रेखा क्या कहती है

जीवन रेखा से जानें जीवन की खास बातें

हस्‍तरेखा शास्‍त्र में ऐसी कई बातों का उल्‍लेख मिलता है जिनके आधार पर आप सफलता-असफलता की जानकारी कर सकते हैं। इसके लिए आपको किसी हस्‍तरेखा शास्‍त्र व‍िशेषज्ञ के पास भी जाने की जरूरत नहीं है। केवल हस्‍तरेखा शास्‍त्र में बताए गए इन आसान से टिप्‍स को फॉलो करना। इनके आधार पर आप स्‍वयं या फिर किसी और की सफलता-असफलता और उसके स्‍वास्‍थ्‍य स्‍तर की जानकारी कर सकते हैं।

यह भी पढ़े: Guru Pushya Yog 2020: शुभ संयोग के साथ अप्रैल की विदाई, मई से उम्मीद बाकी

जीवन रेखा की इस स्थिति पर गौर करना जरूरी

हस्‍तरेखा विज्ञान में बताया गया कि अगर किसी जातक की जीवन रेखा अन्‍य रेखाओं की तुलना में अधिक पतली और गहरी नहीं है तो यह एक शुभ संकेत होता है। इसका आशय होता है कि वह जातक जीवन में किसी भी स्थिति में कभी भी हार नहीं मानेगा जब तक कि वह सफलता हासिल न कर ले। ये अपनी लगन और ऊर्जा के बलबूते बड़ी से बड़ी सफलता प्राप्‍त करते हैं। इसके अलावा इनकी सेहत भी अच्‍छी रहती है और दांपत्‍य जीवन भी सुखमय होता है।

जीवन रेखा की यह स्‍थ‍िति होती है नुकसानदायक

हस्‍त रेखा शास्‍त्र में बताया गया है कि अगर किसी व्‍यक्ति की जीवन रेखा जंजीर की तरह होती है तो सतर्क हो जाइए। सेहत को लेकर यह शुभ संकेत नहीं होता। इसका असर जीवन के विभिन्‍न क्षेत्रों में भी पड़ता है। कई बार सफलता मिलते-मिलते रह जाती है। तो कई बार काम बनते-बनते बिगड़ जाते हैं। फिर बात चाहे कर‍ियर की हो या फिर व्‍यक्तिगत जीवन की। लेकिन अगर सेहत संबंधी मामलों में लापरवाही न बरती जाए तो स्थितियां कुछ बेहतर भी हो सकती हैं।

जीवन रेखा अगर दो टुकड़ों में बंटी हो तो

हस्‍तरेखा शास्‍त्र में जीवन रेखा का दो टुकड़ों में बंटा होना शुभ नहीं होता। लेकिन अगर दोनों हिस्‍सों में ज्‍यादा दूरी न हो तो यह ठीक-ठाक जीवन का संदेश देती है। लेकिन गाहे-बगाहे कुछ न कुछ परेशानी लगी ही रहती है। ध्‍यान देने वाली बात यह है कि अगर किसी की जीवन रेखा दो भागों में बंटी है और वह शुक्र पर्वत की ओर जा रही है तो यह तमाम तरह की गंभीर बीमारियों से स्‍वास्‍थ्‍य हानि का संकेत होता है।

यह भी पढ़े: चारधाम यात्रा शुरू, खुले गंगोत्री और यमुनोत्री के कपाट

जीवन रेखा की यह स्थिति दूर करती है हर द‍िक्‍कत

हस्‍तरेखा शास्‍त्र में जीवन रेखा के साथ यद‍ि कोई दूसरी रेखा गोलाई लिए हुए साथ-साथ चले तो इसे शुभ संकेत माना जाता है। कहा जाता है कि रेखाओं की यह स्‍थ‍िति जीवन में आने वाले सभी संकटों को दूर करती है। इसके अलावा अगर किसी व्‍यक्ति की जीवन रेखा शुक्र पर्वत को घेरकर अधिक गोलाई लिए हुए तो ऐसे व्‍यक्ति जिंदादिल स्‍वभाव के माने जाते हैं। इसके अलावा इनमें गंभीर से गंभीर बीमारियों से भी बचने की बेहतरीन क्षमता होती है।