कोरोना वायरस से बचने के लिए कुछ टिप्स जिसकी मदद से आप अपने बच्चों को इस खतरनाक वायरस से बचने का तरीका बता सकते है।

कोरोनोवायरस  (COVID-19) के बारे में अभी जो कुछ भी आप सुन रहे हैं, उससे अभिभूत होना आसान है। लेकिन इस वायरस के कारण आपके बच्चे भी काफी टेंशन में है तो आपको इसके बारे में ठीक से समझना बहुत ही जरूरी है। बच्चों के लिए यह समझना थोड़ा मुश्किल हो जाता है कि वह टीवी में क्या देख रहें है या फिर दूसरों से इस वायरस के बारे में क्या सुन रहे हैं। कई बार इसके बारे में ठीक से पता न होने के कारण वह चिंता, तनाव और उदासी से ग्रसित हो सकते है। लेकिन आप इस बारे में अपने बच्चों के साथ सकारात्मक तरीके से बताएं तो वह आसानी से इस वायरस के बारे में समझ सकते हैं। इसी कारण यूनिसेफ ने कुछ तरीके बताए है जिन्हें अपनाकर आप आसानी से कोरोना वायरस के बारे में बच्चों को बचा सकते है।

कोरोना वायरस संबंधी सवाल पूछे और सुनें
सबसे पहले बच्चों को इस समस्या को लेकर एक जगह एकत्रित करें। इसके बाद उनसे जाने कि वह इस वायरस के बारे में कितना जानते हैं। अगर वह सबकुछ अच्छी तरह से जानते है तो बस उन्हें इस बात का ध्यान दिलाए कि अच्छी हाइजीन से वह इस वायरस से कोसों दूर रह सकते हैं। 

सुनिश्चित करें कि आप एक सुरक्षित वातावरण में हैं और अपने बच्चे को खुलकर बात करने की अनुमति दें। ड्राइंग, कहानियों और अन्य एक्टविटी के द्वारा इस बात को लेकर खुलकर बात कर सकते हैं।  

ईमानदार रहें: बच्चे के अनुकूल तरीके से सच्चाई को समझाएं
बच्चों के पास ये अधिकार है कि दुनिया में क्या हो रहा है इसके बारे में वह पूरी सच्चाई जान सके। इसके साथ ही वयस्कों की यह जिम्मेदारी है कि वह उन्हें हर संकट से बचा कर रखें। उनकी उम्र के हिसाब को देखकर ही उन्हें उनकी भाषा से समझाएं। इसके साथ ही बच्चों में दिखने वाली चिंता को भी सही ढंग से हल करें। 

अगर आपको किसी चीज का उत्तर नहीं पता है तो अनुमान के रूप में बिल्कुल न बताएं। इसके बारे में अधिक जानकारी के लिए आप विश्व स्वास्थ्य संगठन या फिर यूनिसेफ की वेबसाइट में जाकर देख सकते है। 

कोरोना वायरस: डरें नहीं, लड़ें और जांच में सामने आई इन बातों पर करें गौर!

उन्हें दिखाएं कि वे अपनी और अपने दोस्तों की सुरक्षा कैसे करें
कोरोना वायरस सहित अन्य बीमारियों से अपने बच्चों को बचाना चाहते हैं तो सबसे अच्छा तरीका है कि उन्हें हमेशा हाथ धोने के लिए प्रेरित करें।  उनके साथ कुछ भी ऐसी बात न करें तो भयानक हो। इसके साथ ही अपने बच्चों को बताएं कि जुकाम या फिर छींक आने पर कैसे अपनी कोहनी का इस्तेमाल करें। इसके साथ ही ये भी बताएं कि अगर कोई व्यक्ति सर्दी, जुकाम या बुखार से ग्रसित है तो कैसे उनसे दूरी बनाएं। 

विश्वास दिलाएं
जब हम टीवी या ऑनलाइन पर बहुत सारी परेशान करने वाली तस्वीरें देख रहे हैं, तो कभी-कभी ऐसा महसूस हो सकता है कि संकट हमारे चारों तरफ है। बच्चे कभी भी स्क्रीन  और अपनी वास्तविकता के बीच अंतर नहीं कर सकते हैं। ऐसे वह इस बात को विश्वास कर लेते है कि वह भी अब खतरे में है। ऐसे में आप अपने बच्चों को खेलने और आराम करा कर काफी हद तक इस तनाव से निपटने में मदद कर सकते हैं। जितना हो सके नियमित दिनचर्या और शेड्यूल रखें, खासतौर पर सोने के पहले अच्छा वातावरण बनाने की कोशिश करें। 

अगर आपके एरिया भी कोरोना वायरस का सामना कर रहा है तो ऐसे में अपने बच्चों को याद दिलाएं कि वे बीमारी को नहीं पकड़ सकते हैं। जो कोरोना वायरस से ग्रसित है उन लोगों को बचाने के लिए अन्य वयस्क पूरी मेहनत कर रहे हैं। 

अगर आपका बच्चा अस्वस्थ महसूस करता है, उसे समझाएं कि उन्हें घर पर या अस्पताल में रहना होगा क्योंकि यह उनके और उनके दोस्तों के लिए सुरक्षित है। इसके साथ ही उसे अच्छी तरह से कोरोना वायरस के नियमों को बताएं। 

बच्चों की हर चीजों पर रखें ध्यान
कोरोनावायरस का प्रकोप अपने साथ दुनिया भर में नस्लीय भेदभाव की कई रिपोर्टें लाया है, इसलिए यह जांचना महत्वपूर्ण है कि आपके बच्चे न तो अनुभव कर रहे हैं और न ही बदमाशी में योगदान दे रहे हैं।

अपने बच्चों को बताएं कि  कोरोना वायरस का कोई लेना-देना नहीं है कि कोई व्यक्ति कैसा दिखता है, वे कहां से हैं या वे किस भाषा में बात करते हैं। अगर उन्हें स्कूल में  किसी गलत नाम से बुलाया जाता है, तो उन्हें एक वयस्क को बताने में सहज महसूस करना चाहिए, जिस पर वे भरोसा करते हैं।

अपने बच्चों को बताएं कि यह सभी का हक है कि वह स्कूल में सुरक्षित रहें। इसके साथ ही एक-दूसरे की मदद के लिए प्रेरित करें। 

अपना ख्याल रखा करो
यदि आप भी नकल कर रहे हैं, तो आप अपने बच्चों की बेहतर मदद कर पाएंगे। बच्चे समाचार के प्रति आपकी स्वयं की प्रतिक्रिया पर विचार करेंगे, इसलिए यह आपको शांत और नियंत्रण में जानने में उनकी मदद करता है।

यदि आप चिंतित या परेशान महसूस कर रहे हैं, तो अपने लिए समय निकालें और अपनी आसपास की अन्य परिवार, दोस्तों और विश्वसनीय लोगों तक पहुंचे और इसके बारे में खुलकर बात करें।