Tulsi Vivah 2020: तुलसी पूजा में इन बातों का जरूर रखें ध्यान, वरना रूठ जाएंगी मां लक्ष्मी

हिन्दू पंचांग के अनुसार, तुलसी विवाह का आयोजन हर साल कार्तिक माह शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि के दिन किया जाता है। साल 2020 में यह एकादशी तिथि 25 नवंबर को प्रारंभ होगी और 26 तारीख को समाप्त होगी। कई जगह द्वादशी के दिन भी तुलसी विवाह किया जाता है। धार्मिक मान्यता के अनुसार, तुलसी विवाह के दिन भगवान शालिग्राम और तुलसी माता का विवाह विधि-विधान के साथ किया जाता है। इस दिन तुलसी पूजा का विधान है। लेकिन तुलसी पूजा को लेकर कुछ बातों का ध्यान रखना बेहद जरूरी होता है। आइए जानिए देवउठनी एकादशी व्रत.

संध्या के समय जलाएं दीपक

घर में लगी हुई तुलसी को नियमित रुप से जल देना चाहिए, और संध्या के समय दीपक जलाना चाहिए। जिन घरों में तुलसी में सुबह-शाम प्रतिदिन दीपक जलाया जाता है, और जल दिया जाता है। मां महालक्ष्मी की कृपा उन पर हमेशा बनी रहती है। रविवार के दिन तुलसी में जल नहीं चढ़ाना चाहिए।

Ask-a-Question-with-our-Expert-Astrologer2

तामसिक चीजों से करें परहेज

तुलसी का पौधा भगवान विष्णु को अति प्रिय है। भगवान विष्णु की पूजा में किसी भी तरह से तामसिक चीजों का प्रयोग वर्जित माना गया है। इसलिए जहां पर भी तुलसी का पौधा लगा हो वहां पर कभी मांस मदिरा का सेवन भूलकर भी नहीं करना चाहिए। जो लोग अपने गले में तुलसी की माला धारण करते हैं, उन्हें भी तामसिक चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए।

दिशा का रखें ध्यान

तुलसी का पौधा वास्तु दोष दूर करने में भी सक्षम होता है। जहां पर भी तुलसी लगी होती है, वहां पर सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है। लेकिन तुलसी का पौधा कभी भी दक्षिण दिशा में नहीं होना चाहिए। ये आपके लिए अशुभफलदायक हो सकती है। तुलसी के पौधे को हमेशा पूर्वोत्तर या उत्तर दिशा में लगाना चाहिए। अगर आपके घर में उचित स्थान है, तो तुलसी को घर के आंगन के बीच में लगाएं। यह बहुत शुभ फल देती है।

गमले में लगाएं पौधा

कुछ लोग अपने घर में जमीन में तुलसी का पौधा रोपते हैं, लेकिन तुलसी को हमेशा गमले में ही लगाना चाहिए। मान्यता है कि जमीन पर लगा हुआ तुलसी का पौधा अशुभ फल देता है। इसका प्रभाव घर के सदस्यों के स्वास्थ पर भी पड़ता है।

rgyan app

इन बातों का जरूर रखें ध्यान

रविवार, सूर्य ग्रहण, चंद्रग्रहण और सूर्यास्त होने के बाद कभी भी तुलसी के पत्ते नहीं तोड़ना चाहिए। तुलसी के पत्तों को बिना आवश्यकता के नहीं तोड़ना चाहिए। अगर आपने घर में तुलसी का पौधा लगाया है, तो उसकी सही से देखभाल करना आवश्यक होता है। तुलसी के पौधे का ध्यान रखें। वह सूखे न और अगर तुलसी सूख गई है, तो उस स्थान पर तुरंत नया पौधा लगा दें। सूखे हुए पौधे को ऐसे ही न फेंके, बल्कि उसे किसी नदी में प्रवाहित कर दें। अन्य खबरों के लिए इस लिंक पर क्लिक करें.

स्रोतwww.amarujala.com
पिछला लेखVastu Tips: घर की पूर्व दिशा में लगाएं इस रंग के पर्दे, वास्तु दोषों से मिलेगा छुटकारा
अगला लेखDev Uthani Ekadashi 2020: इस बार देवउठनी एकादशी व्रत का मिलेगा दोगुना लाभ, बन रहा है ये शुभ संयोग