28 जून से खुल रहा है महाकाल मंदिर : आम हों या खास किसी श्रद्धालु को नहीं मिलेगा गर्भगृह में प्रवेश

महाकाल मंदिर (Mahakal Temple) के पट 28 जून से श्रद्धालुओं के लिए खुल रहे हैं. लेकिन कोरोना के कारण काफी सख्ती रहेगी. VVIP हों या आम श्रद्धालु किसी को भी गर्भगृह और नंदी हॉल में जाने की इजाजत नहीं होगी. सभी को कोरोना प्रोटोकॉल के मुताबिक दूर से बाबा के दर्शन करने होंगे.

विश्व प्रसिद्ध महाकालेश्वर मंदिर 28 जून से खुलने जा रहा है. भक्त देश विदेश से लगातार जानकरी ले रहे हैं कि कोरोना काल में बाबा के दर्शन कैसे किये जा सकते हैं. मंदिर खुलने में सिर्फ दो दिन बाकी हैं. इसलिए आज उज्जैन कलेक्टर आशीष सिंह, एसपी सत्येंद्र शुक्ल सहित आला अधिकारियों ने महाकाल मंदिर पहुंचकर सभी व्यवस्थाओं का जायजा लिया.

Get-Detailed-Customised-Astrological-Report-on

महाकालेश्वर मंदिर में निर्माण कार्य चल रहा है इसलिए मंदिर के एंट्री और एक्जिट दोनों गेट बंद हैं. कलेक्टर और महाकाल मंदिर प्रशासन के निर्देश पर श्रद्धालुओं के लिए नयी व्यवस्था कर दी गयी है. अब श्रद्धालु गेट नंबर चार से प्रवेश करते हुए सभा मंडप में आएंगे और यहां लगे बैरिकेड के पीछे से दर्शन करेंगे. फिर गेट नंबर चार के दूसरे भाग से बाहर निकल जाएंगे.

नंदी हॉल और गर्भगृह बंद

महाकाल मंदिर में आने वाले श्रद्धालुओं का उत्साह इस बात से समझ आता है की गुरुवार को ऑनलाइन बुकिंग लिंक खुलते ही मात्र चार घंटे में सारी बुकिंग हो गयीं. कोरोना के कारण अब एक दिन में सिर्फ 3500 लोग ही दर्शन कर सकेंगे. महाकलेश्वर मंदिर में 28 जून से आने वाले श्रद्धालु 250 रुपए की रसीद से भी दर्शन कर सकेंगे. इसके अलावा मंदिर में आने वाले वीआईपी और सामान्य श्रद्धालु कोई भी नंदी हाल और गर्भगृह में नहीं घुस पाएंगे. वीवीआईपी श्रद्धालुओ को भी अपनी कोविड रिपोर्ट या वैक्सीन का सर्टिफिकेट दिखाने के बाद ही मंदिर में प्रवेश मिलेगा.

ये व्यवस्था रहेगी

भगवान श्री महाकालेश्वर मन्दिर में दर्शनार्थियों के लिए 28 जून से दर्शन शुरू होंगे.

-दर्शनार्थियों को ऑनलाइन बुकिंग कराने के बाद वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट या 24 से 48 घंटे पूर्व की कोविड निगेटिव रिपोर्ट दिखाने पर ही मन्दिर परिसर में प्रवेश दिया जाएगा.

  • मन्दिर परिसर में स्थित सभी देवस्थान दर्शन के लिए खुले रहेंगे. कलेक्टर आशीष सिंह ने कहा महाकाल मंदिर में मुख्य प्रवेश द्वार के सामने काम चलने के कारण बंद किया गया है. इसलिए श्रद्धालुओं को गेट नंबर चार से प्रवेश मिलेगा.
Ask-a-Question-with-our-Expert-Astrologer-min

ये निर्णय

  1. श्रद्धालुओं को 28 जून से सुबह 6 बजे से रात 8 बजे तक सात स्लॉट में ऑनलाइन टिकट के बाद दर्शन के लिए प्रवेश दिया जाएगा.
  2. गर्भगृह, नन्दी हाल में वीआईपी सहित आम श्रद्धालुओं का प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा. मन्दिर में सेल्फी लेने पर प्रतिबंध रहेगा.
  3. भस्म और शयन आरती में श्रद्धालुओं को प्रवेश नहीं मिलेगा. प्रतिबंधित रहेगा.

4 प्रत्येक स्लॉट में 500 श्रद्धालुओं को परमिशन

5 शुरुआत में एक दिन में 3500 श्रद्धालुओं को प्रवेश

अन्य खबरों के लिए इस लिंक पर क्लिक करें

स्रोतhindi.news18.com
पिछला लेखCoronavirus: देशभर में मिले 48,698 नए मरीज, 1183 की मौत, 6 लाख से कम हुए एक्टिव केस
अगला लेखचाचा के ‘धोखे’ पर क्या सोचते हैं चिराग? दिया इंटरव्यू और बयां किया दर्द