UP Election 2022: 80 बनाम 20 वाले बयान पर बोले CM योगी- हमारा मतलब जाति, मज़हब से नहीं, विकास से था

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव का आगाज़ हो चुका है। दूसरी चरण के लिए मतदान जारी है। चुनाव से पहले उत्तर प्रदेश की सियासत में काफी उथल-पुथल का दौर रहा। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का एक इंटरव्यू काफी चर्चा में रहा। उन्होंने कहा था कि यह चुनाव 80 और 20 का होगा। इस पर अब उन्होंने न्यूज़ एजेंसी ANI से बात करते हुए कहा, ‘ये क्रिया की प्रतिक्रिया है। मैंने कहा कि 80 प्रतिशत बीजेपी के साथ होगा, 20 प्रतिशत हमेशा विरोध करता है और वो करेगा भी।’

योगी आदित्यनाथ ने आगे कहा, ‘हमने जाति, मज़हब की कभी बात नहीं की। हमने तो 80 बनाम 20 की बात की है। 80 वे लोग जो सरकार के कार्यों से खुश हैं, जिन्हें विकास पसंद है। 20 फीसदी वे लोग होते हैं जो हमेशा विरोध करते हैं। उन्हें सिर्फ विरोध ही नज़र आता है। ऐसे लोग माफिया हैं या माफियाओं का समर्थक हैं। मैं कह सकता हूं कि पहले चरण के साथ ही ये साफ हो चुका है कि ये चुनाव 80 बनाम 20 का ही है। 80 फीसदी से ज्यादा समर्थन बीजेपी को प्राप्त हुआ है जबकि 20 फीसदी उन्हें प्राप्त हुआ है जो वैक्सीन का विरोध करता है।’

सीएम योगी कहते हैं, ‘ये लोग महिला सुरक्षाओं का विरोध करते हैं। मेडिकल कॉलेज का विरोध करते हैं। इन लोगों को हमेशा से सिर्फ विरोध करना होता है और ये विरोध ही करते हैं।’ तीन तलाक के मुद्दे पर बोले हुए योगी ने कहा, ‘बेटी को स्वतंत्र करवाने के लिए प्रधानमंत्री जी ने तीन तलाक को खत्म कर दिया। उसी बेटी को सम्मान दिलाने के लिए ये फैसला लिए गए थे। संविधान के अनुरूप व्यवस्था चलेगी तो हर बेटी के सम्मान का कार्यक्रम किया जाएगा।’

चुनाव पर क्या बोले सीएम योगी-

योगी आदित्यनाथ मुस्कुराते हुए इसका जवाब देते हैं, ‘मैं 10 मार्च के बाद फिर इंटरव्यू दे सकता हूं। भारतीय जनता पार्टी प्रधानमंत्री मोदी जी के आशीर्वाद से फिर आएगी। सपा, बसपा और कांग्रेस के मन में निराशा जा चुकी है। पहले चरण में ही ये साफ हो गया था। भारतीय जनता पार्टी ने जो लक्ष्य दिया है, हम इस बार भी 300 पार के लक्ष्य को आराम से पार कर रहे हैं।’ अन्य खबरों के लिए इस लिंक पर क्लिक करें

स्रोतindia.news18.com
पिछला लेखजानें बेल पत्र को तोड़ने और भगवान शिव पर अर्पित करने का सही तरीका
अगला लेखChinese Apps Ban in India: देश की सुरक्षा के लिए खतरा बने 54 चीनी ऐप्स पर प्रतिबंध लगाएगी सरकार