Valentines Day 2022 Special: वैवाहिक जीवन को रखना है खुशहाल, तो करें बस यह एक काम

लव लाइफ (Love Life) को सेलिब्रेट करने के लिए वैलेनटाइन डे (Valentines Day) आ रहा है. इस दिन शादीशुदा जोड़े और प्रेमी जोड़े अपने रिश्तों को प्रगाढ़ करने के लिए कई उपाय करते हैं. हिन्दू धर्म में भी वैवाहिक जीवन को खुशहाल बनाने के लिए कई उपाय हैं. लव लाइफ को बेहतर करने के लिए व्रत रखे जाते हैं, ताकि लाइफ पार्टनर (Life Partner) के साथ तालमेल अच्छा रहे और रिश्ता मधुर एवं मजबूत रहे. आप भी अपनी लव लाइफ या वैवाहिक जीवन को खुशहाल बनाना चाहते हैं या बनाए रखना चाहते हैं, तो आपको बस एक काम करना है- वो है गुरुवार का व्रत (Guruvar Vrat). गुरुवार का व्रत रखने से लव लाइफ की समस्याएं दूर होती हैं और प्रेम संबंध प्रगाढ़ होता है. आइए जानते हैं गुरुवार व्रत के बारे में.

गुरुवार व्रत का लाभ

  1. गुरुवार का व्रत करने से दांपत्य जीवन खुशहाल रहता है. पति एवं पत्नी के बीच का मनमुटाव खत्म होता है, तालमेल अच्छा बना रहता है.
  2. आप अपने लव पार्टनर को लाइफ पार्टनर बनाना चाहते हैं या विवाह में होने वाली देरी या किसी अड़चन को दूर करना चाहते हैं, तो गुरुवार का व्रत विधि विधान से करें.
  1. देव गुरु बृहस्पति मांगलिक कार्यों के लिए उत्तरदायी माने जाते हैं. गुरुवार व्रत रखने से गुरु बृहस्पति की कृपा प्राप्त होती है, जिससे जीवन में शुभता का योग बनता है.

गुरुवार व्रत एवं पूजा विधि

  1. गुरुवार से एक दिन पूर्व ता​मसिक भोजन का त्याग कर दें. गुरुवार प्रात: स्नान के बाद पीले कपड़े पहन लें. उसके बाद जल, अक्षत् एवं फूल से व्रत एवं पूजा का संकल्प करें.
  2. इसके बाद भगवान विष्णु एवं देव गुरु बृहस्पति की पीले फूल, अक्षत्, हल्दी, चंदन, धूप, दीप, गंध आदि से पूजा करें. बेसन का लड्डू, केला या चने की दाल एवं गुड़ का भोग लगाएं. इसके बाद गुरुवार व्रत कथा का पाठ करें. फिर देव गुरु बृहस्पति और भगवान विष्णु की आरती करें.
  3. अब केले के पौधे की पूजा करें. वहां पर भी चने की दाल एवं गुड़ का भोग लगाएं.
  1. व्रत के दिन फलाहार में केला न खाएं. पूजा के बाद चने की दाल, गुड़, पीले वस्त्र, केला, पुस्तक आदि का दान करें. इससे गुरु ग्रह मजबूत होता है.
  2. फिर शाम के समय में मीठा भोजन करें. बेसन से बने खाद्य पदार्थों का सेवन करें. अन्य खबरों के लिए इस लिंक पर क्लिक करें
स्रोतindia.news18.com
पिछला लेखJaya Ekadashi 2022: 12 फरवरी को है जया एकादशी व्रत, नोट करें पूजा मुहूर्त एवं पारण समय
अगला लेखUP Election 2022: प्रियंका गांधी ने कांग्रेस का घोषणा पत्र जारी किया, जानें इसकी खास बातें