वास्तु शास्त्र: दक्षिण दिशा में बना शौचालय आपके जीवन में ला सकता है मुसीबतें, आप जरूर अपनाएं ये कुछ उपाय

वास्तु शास्त्र में कल आचार्य इंदु प्रकाश से बताया था दक्षिण-पूर्व दिशा में शौचालय के बारे में और आज बताएंगे दक्षिण दिशा में शौचालय बनवाने के बारे में। अगर आपके घर की दक्षिण दिशा में शौचालय की संभावना है तो इसे दक्षिण और दक्षिण-पश्चिम के बीच शिफ्ट करने की कोशिश करें।

यह भी पढ़े: जिन घरों में रहती हैं ये 5 चीजें, वहां मां लक्ष्‍मी नहीं रहतीं

ठीक दक्षिण दिशा में शौचालय का निर्माण कराने से यश और कीर्ति की हानि होती है। मझली बेटी को अपयश का सामना करना पड़ता है। जीवन की ऊष्मा गुम हो जाती है और आपकी आंखें लगातार परेशान करती रहती हैं।

आंखों में कोई न कोई विकार बना ही रहता है और हर सुबह 9 से 11 बजे के बीच मुसीबत भरे संदेश आते हैं। हर साल गर्मी के मौसम में सरकारी विभागों से नोटिसे मिलती हैं और व्यर्थ की प्रताड़ना झेलनी पड़ती हैं। 

अगर किसी मजबूरी के चलते दक्षिण दिशा में आपका शौचालय है तो उसके प्रभावों को कम करने के लिये टॉयलेट के दरवाजे पर तांबे की पत्ती जड़वाने से कुछ राहत हो जाएगी।