Shardiya Navratri 2021: मां ब्रह्मचारिणी मंगल को करती हैं शांत, माता का ऐसा है अद्भुत स्वरुप

नवरात्रि (Navratri) के नौ दिनों में दुर्गा माता के विभिन्न स्वरुपों का पूजन किया जाता है. नवरात्रि के दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी (Maa Brahmacharini)की पूजा की जाती है. देवी मां का ये स्वरुप मां पार्वती का अविवाहित रुप भी माना जाता है. ब्रह्मचारिणी संस्कृत का शब्द है. जो शब्दों से मिलकर बना है. पहला ब्रह्म और दूसरा आचरिणी, जिसका अर्थ हुआ ब्रह्म के समान आचरण करने वाली. मां ब्रह्मचारिणी ने कठोर तपस्या की थी इस वजह से इनका एक नाम तपश्चारिणी भी है.

ज्योतिषीय मान्यताओं के अनुसार माता का ये स्वरुप मंगल ग्रह को भी नियंत्रित करता है, इस वजह से मां ब्रह्मचारिणी के पूजन और ध्यान से मंगल दोष शांतं होता है और मंगल ग्रह का बुरा प्रभाव कम हो जाता है.

यह है पौराणिक कथा

पौराणिक कथा के अनुसार जब माता पार्वती ने भगवान शिव से विवाह की इच्छा प्रकट की तो उनके माता-पिता इस विवाह को लेकर उन्हें हतोत्साहित करने लगे. तब माता ने कामदेव से मदद मांगी. उन्होंने ध्यानमग्न भोलेनाथ पर कामवासना का तीर छोड़ा और शिवजी का ध्यान भंग हो गया. इससे क्रोधित होकर भोलेनाथ ने अपना तीसरा नेत्र खोलकर कामदेव को भस्म कर दिया. माता पार्वती इसके बाद एक पहाड़ पर गईं और कई वर्षों तक ब्रह्मचर्य का पालन कर घोर तप किया. इस वजह से वे ब्रह्मचारिणी भी कहलाईं.

कथा के अनुसार माता की इस कठोर के बाद भगवान शंकर का ध्यान देवी की ओर गया और वे अपना रुप बदलकर पार्वती के पास गए. उन्होंने देवी मां के सामने अपनी ही बुराई की लेकिन मां पार्वती ने उनकी एक न सुनी. आखिर में शिव जी ने पार्वती जी को अपनाया और उनके साथ विवाह किया.

astro

ये है मां ब्रह्मचारिणी का स्वरुप

मां ब्रह्मचारिणी का स्वरुप भी अद्भुत है. उन्होंने श्वेत वस्त्र पहने हुए हैं और उनके दाहिने हाथ में जप की माला और बाएं हाथ में कमंडल सुशोभित है. मां का स्वरुप अत्यंत तेजोमय और ज्योतिर्मय है. नवरात्रि में मां के पूजन से व्यक्ति में त्याग, तप और संयम की बढ़ोतरी होती है. मां को ब्राह्मी भी कहा जाता है. ब्राह्मी आयु को बढ़ाने वाली, स्मरण शक्ति को बढ़ाने वाली, स्वर को मधुर करने वाली और रुधिर विकारो को दूर करने वाली होती है. इन रोगों से पीड़ित लोगों को मां ब्रह्मचारिणी की आराधना करना चाहिए. अन्य खबरों के लिए इस लिंक पर क्लिक करें

स्रोतhindi.news18.com
पिछला लेखStock Market Today- सेंसेक्स 60,000 प्वाइंट्स के करीब खुला, निफ्टी 17,880 के पार, RBI policy पर है नजर
अगला लेखShardiya Navratri 2021: नवरात्रि पर मां दुर्गा के इन मंदिरों में करें दर्शन, मिलेगा आशीर्वाद