Vastu Tips: जानें पूजा के समय घंटी बजाने से क्या होता है लाभ?

वास्तु शास्त्र में आज हम चर्चा करेंगे घंटे के बारे में योगिनी तंत्र में कहा गया है कि शिव के मंदिर में भल्लक, सूर्य के मंदिर में शंख और दुर्गा के मंदिर में बांसुरी तथा माधुरी नहीं बजाने चाहिये। जय सिंह कल्प द्रुम के अनुसार पूजा के समय सदैव घंटा या घंटी बजाना शुभ है। घंटा सर्ववाद्दमय माना गया है। भारत के अलावा चीनियों ने भी इसे समझा और आज बाजार में तरह-तरह कि विंड चाइम्स उपलब्ध है, यही नहीं गिरजाघरों में भी घंटी बजाने की परम्परा है।

astrologi report

घंटे की आवाज निगेटिव एनर्जी को हटा कर पॉजिटिव एनर्जी को एकत्र करके स्थान के वास्तु को शुद्ध करती है। इसलिये पूजा घर में अपने वामभाग में घंटा बजा
कर रखना चाहिये। उसकी गंध, अक्षत, पुष्प से पूजा करनी चाहिये। साथ ही इस मन्त्र का जप करना चाहिए। मन्त्र है – ॐ भूर्भुव: स्व: गरुड़ाय नम:। अन्य खबरों के लिए इस लिंक पर क्लिक करें

स्रोतwww.indiatv.in
पिछला लेखआज का पंचांग 15 अप्रैल 2021: चैत्र नवरात्रि के तीसरे दिन होगी मां चंद्रघंटा की पूजा, जानें शुभ मुहूर्त और राहुकाल
अगला लेखChaitra Navratri 2021: नवरात्र के तीसरे दिन करें मां चंद्रघंटा की पूजा, जानिए पूजा विधि, मंत्र और भोग