वास्तु शास्त्र: जानिए घर में ताजे सुगंधित फूल को क्यों माना जाता है इतना खास

वास्तु शास्त्र में कल आचार्य इंदु प्रकाश ने बात आपको बताया था घर में कांच की कटोरी में पानी भरकर गुलाब की पंखुड़ियां रखने के बारे में। इसी क्रम में आज बात करेंगे फूलों की सुगंध की उपयोगिता के बारे मे। आज कल आपने सुना होगा कि कोरोना के लक्षणों मे से एक लक्षण है- सूंघने की क्षमता का कम हो जाना। देह मे जाते ही विषाणु आपकी सूंघने की क्षमता पर हमला करता है। 

यह भी पढ़े: गुरुवार यानी आज के लिए एस्ट्रो टिप्स: आपको करना होगा कोई भी 1 काम शुरू, आइये देखते हैं..

सुगंध देवताओं का मामला है यानि सुगंध पॉजिटिव हेल्थ की तरफ इंडीकेट करती है और दुर्गंध पिशाचों यानि विषाणुओं को निमंत्रण देती है, हमारे पूजा प्रकरणों मे सुगंध का बहुत महत्व इसीलिए रहा है।

कहते हैं कि फ़्रांस मे जब प्लेग फैला तो जो लोग लैंग लैंग नाम की सुगंध की फैक्ट्री मे काम करते थे उनमे से किसी को प्लेग नहीं हुआ। अगली बार जब प्लेग फैला तो लोग अपने कपड़ों मे लैंग लैंग की शीशी ले कर चलने लगे। हमे भी अपनी परंपरा का पालन करते हुए घर को निरंतर सुगंधित रखना चाहिए ताकि कोरोना कमजोर पड़ जाए साथ ही रोज कोरोना का ऑटोमैटिक टेस्ट भी होता रहेगा आपके सूंघने की क्षमता आपको आपके स्वस्थ होने की खबर देती रहेगी।