दुबलेपन या अंडरवेट से हैं परेशान, अपनाएं स्वामी रामदेव के ये टिप्स 20 दिन में दुबलेपन से पाएं छुटकारा

आजकल कुछ लोगों की उनकी खुद की सबसे बड़ी परेशानी है उनका मोटापा तो वहीं कुछ लोग ऐसे हैं जिनकी लाइफ की सबसे बड़ी परेशानी है उनका दुबलापन। कुछ लोग इतने दुबले होते हैं कि वो अपना कॉन्फिडेंस भी खो देते हैं। बहुत ज्यादा पतले होने से पर्सनैलिटी पर बहुत बुरा असर पड़ता है। मोटापे की तरह दुबलापन भी कई बीमारियों की वजह बनता है। शरीर में किसी भी तरह के इन्फेक्शन से लड़ने की क्षमता खत्म हो जाती है। जिसकी वजह से ज्यादा दुबले लोग जल्दी बीमार भी पड़ जाते हैं। लेकिन एक सुडौल बॉडी आसानी से योग के जरिए पा सकते हैं। अंडरवेट लोगों के लिए स्वामी रामदेव ने कुछ योगाभ्यास बताए हैं जिन्हें अपनाकर आप अपना दुबलापन दूर कर सकते हैं।

कितनी लें कैलोरी

पुरुषों को स्वस्थ रहने के लिए 2500 कैलोरी

महिलाओं को स्वस्थ रहने के लिए 2000 कैलोरी

सूर्य नमस्कार- दुबले लोग रोजाना करें, होगा फायदा

एनर्जी लेवल बढ़ाने में मददगार

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है
पाचन तंत्र बेहतर रहता है
शरीर में लचीलापन आता है
स्मरण शक्ति मजबूत होती है
वजन बढ़ाने के लिए कारगर
शरीर को डिटॉक्स करता है
त्वचा में निखार आता है
तनाव की समस्या दूर होती है
शीर्षासन के फायदे
तनाव और चिंता दूर होती है
आत्मविश्वास, धैर्य और निडरता बढ़ती है

दंड बैठक- दुबले लोग रोजाना दंड बैठक करें। इससे भुजाओं, पैर और सीना मजबूत होगा

दंड बैठक के लाभ

पैरों और जांघों को मजबूती देता है
हड्डियां मजबूत और निरोगी गहती है
शरीर में नई शक्ति का संचार होता है
वजन को नियंत्रण में रखता हैट
शरीर को सुंदर और सुडौल बनाता है
सीना चौड़ा और भुजाएं मजबूत होती हैं
शरीर का संतुलन सुधरता है
शरीर के हिसाब से वजन बढ़ता है
मसल्स को मजबूत करता है
पैर और घुटने शक्तिशाली बनते हैं

दंड के 12 अभ्यास- हर एक अभ्यास के 25-25 सेट कम से कम 4 बार करें। इसके बाद सेट की संख्या बढ़ाते रहें। इससे पूरी बॉडी की एक्सरसाइज हो जाएगी।

साधारण दंड
राममूर्ति दंड
वक्ष विकासक दंड
हनुमान दंड
वृश्चिक दंड भाग 1
वृश्चिक दंड भाग 2
पार्श्व दंड
आठ चक्र दंड
पलट दंड
शेर दंड
सर्पदंड
मिश्र दंड

ये प्राणायाम जरूर करें

कपाल भाति

रोजाना सुबह शाम कपालभाति करने से हार्ट ब्लॉकेज की समस्या को दूर किया जा सकता है।
मन को शांत रखता है।
थायराइड की समस्या दूर से निजात दिलाता है।
सिगरेट की लत से छुड़ाने में मददगार है कपालभाति।
जिन लोगों को सिगरेट पीने की लत हो जाती है तो उनके फेफड़े ब्लॉक हो जाते हैं। कपालभाति की मदद से फेफड़े की ब्लॉकेज को सही कर सकता है।
कपालभाति से क्रॉनिक लिवर, क्रॉनिक किडनी और फैटी लिवर की समस्या दूर होती है।
हैपेटाइटिस की समस्या को भी कपालभाति दूर करने में मददगार है।
भस्त्रिका- 6 पैक के लिए जरूरी

इस प्राणायाम को रोजाना करने से हाइपरटेंशन, अस्थमा, हार्ट संबंधी बीमारी, टीवी, ट्यूमर, बीपी, लिवर सिरोसिस, साइनस, किसी भी तरह की एनर्जी और फेफड़ों के लिए अच्छा माना जाता है।

भ्रामरी

इस प्राणायाम को करने के लिए पहले सुखासन या पद्मासन की अवस्था में बैठ जाएं। अब अंदर गहरी सांस भरते हैं। सांस भरकर पहले अपनी अंगूलियों को ललाट में रखते हैं। जिसमें 3 अंगुलियों से आंखों को बंद करते हैं। अंगूठे से कान को बंद करते हैं। मुंह को बंदकर ‘ऊं’ का नाद करते हैं। इस प्राणायाम को 5 से 7 बार जरूर करना चाहिए। भस्त्रिका करने से शरीर में ऑक्सीजन का लेवल बढ़ जाता है। जिसके कारण कैंसर की कोशिकाएं मर जाती हैं।

अनुलोम विलोम

सबसे पहले पद्मासन की मुद्रा में बैठ जाएं। अब दाएं हाथ की अनामिका और सबसे छोटी उंगली को मिलाकर बाएं नाक पर रखें और अंगूठे को दाएं वाले नाक पर लगा लें। तर्जनी और मध्यमा को मिलाकर मोड़ लें। अब बाएं नाक की ओर से सांस भरें और उसे अनामिका और सबसे छोटी उंगली को मिलाकर बंद कर लें। इसके बाद दाएं नाक की ओर से अंगूठे को हटाकर सांस बाहर निकाल दें। इस आसन को 5 मिनट से लेकर आधा घंटा कर सकते हैं। इस प्राणायाम को करने से क्रोनिक डिजीज, तनाव, डिप्रेशन, हार्ट के लिए सबसे बेस्ट माना जाता है। इसके अलावा ये मांसपेशियों की प्रणाली को भी ठीक रखता है। इसे 10 से 15 मिनट करें।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here