World Blood Donor Day 2021: विश्व रक्तदान दिवस का इतिहास, जानिए ब्लड डोनेट करने के फायदे

दुनियाभर में आज विश्व रक्तदान दिवस मनाया जा रहा है। पहली बार इसे साल 2005 में मनाया गया था। इसका उद्देश्य ‘खून की कमी से लोगों की जान न जाए’, इसलिए लोगों के बीच जागरुकता फैलाना है। रक्तदान से आप ना सिर्फ किसी की जिंदगी बचा सकते हैं, बल्कि खुद को स्वस्थ भी रखने में मदद मिलेगी। कई रिसर्च में ये बात सामने आई है कि ब्लड डोनेट करने से शारीरिक और मानसिक रूप से हेल्दी रहहते हैं। आइये जानते हैं इसका इतिहास और फायदों के बारे में…

Get-Detailed-Customised-Astrological-Report-on

विश्व रक्तदान दिवस मनाने का कारण

14 जून को नोबेल प्राइज विजेता और वैज्ञानिक कार्ल लैंडस्टेनर का जन्म हुआ था। इन्होंने ABO ब्लड ग्रुप सिस्टम खोजने का श्रेय मिला है। ब्लड ग्रुप्स का पता लगाने वाले कार्ल लैंडस्टीनर के जन्मदिन के दिन ही विश्व रक्तदान दिवस मनाया जाता है। कार्ल के द्वारा ब्लड ग्रुप्स का पता लगाए जाने से पहले ब्लड ट्रांसफ्यूजन बिना ग्रुप के जानकारी होता था। इसीलिए इस खोज के कारण कार्ल लैंडस्‍टाईन को सन 1930 में नोबल पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

ये लोग कर सकते हैं रक्तदान

कोई भी स्वस्थ्य व्यक्ति 18 साल की उम्र के बाद आसानी से ब्लड डोनेट कर सकता है। ब्लड देने वाले व्यक्ति को एचआईवी, हेपेटाइटिस बी और सी आदि रोग ना हुआ हो। इसके साथ ही जिसके शरीर में आयरन भरपूर मात्रा हो। हर 3 माह में एक बार रक्तदान करना चाहिए। इससे आपके शरीर में आयरन की मात्रा ठीक बनी रहती है।

शरीर में कम हो जाएगा खून?

कई लोगों को लगता है कि रक्तदान किया तो उनके शरीर से खून कम हो जाएगा। लेकिन आपको बता दें कि आपके रक्तदान करने के 48 घंटे के अंदर ही आपके शरीर में ब्लड की कमी पूरी हो जाती है।

Ask-a-Question-with-our-Expert-Astrologer-min

रक्तदान के फायदे

नियमित रुप से ब्लड डोनेट करने से आपके शरीर में आयरन का लेवल बैलेंस रहेगा। साथ ही इससे हीमोक्रोमाटोसिस नामक बीमारी से बचाव होता है।
शरीर में ऑक्सीजन ठीक ढंग से सप्लाई होती है।
जब आप रक्तदान करते है तो आपके शरीर में नए टीशूज बनते है। जिसके कारण आप कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से बच सकते हैं।
रक्त दान करने से ब्लड प्रेशर सामान्य और कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम रहता है।
अगर आप नियमित रुप से रक्तदान करते है तो आप मोटापे से भी बच सकते है। क्योंकि रक्तदान करने से कैलोरी और फैट जल्दी बर्न होता है।
खून का संचार ठीक ढंग से होता है। जिसके कारण आर्टरीज में ब्लाकेज और क्लॉटिंग में समस्या नहीं होती है। और हार्ट अटैक से बचाव होता है। अन्य खबरों के लिए इस लिंक पर क्लिक करें

स्रोतwww.indiatv.in
पिछला लेखसोमवार को भगवान शिव की पूजा में करें महामृत्युंजय मंत्र का जाप, जीवन से कष्ट होंगे दूर
अगला लेखकोरोना वैक्सीन लगने के बाद अब तक 488 लोगों की मौत, 26 हजार पर दिखे गंभीर साइड इफेक्ट: सरकारी डेटा