गुरुवार के दिन इस नियम और विधि से करें भगवान विष्णु की पूजा, शादीशुदा जिंदगी में आएंगी खुशियां

हिंदू धर्म में गुरुवार (Thursday) के दिन भगवान विष्णु (Lord Vishnu) की पूजा की पूजा की जाती है. गुरुवार का दिन श्रीहरि का पूजा के लिए बेहद खास माना जाता है. कहते हैं सच्चे मन से उनकी पूजा करने वाले भक्तों की सभी मनोकामनाएं भगवान विष्णु जरूर पूरा करते हैं. हिंदू धर्म शास्त्र के अनुसार गुरुवार को भगवान विष्णु की विधिवत पूजा करने से जीवन के सभी संकटों से छुटकारा मिलता है और पापों का नाश होता है. अगर आप अपनी आर्थिक स्थिति को सुधारना चाहते हैं तो गुरुवार के दिन भगवान विष्णु की पूजा जरूर करें. विष्णु जी की पूजा करने से धन के साथ-साथ वैवाहिक जीवन में सुख-शांति भी होती है. जानें गुरुवार के व्रत की विधि और नियम.

Get-Detailed-Customised-Astrological-Report-on

पूजा की विधि

-गुरुवार के दिन भगवान विष्‍णु की पूजा की शुरुआत- ऊं नमो नारायणा- मंत्र के जप के साथ करें. इस मंत्र को 108 बार जपने से घर में सुख-शांति आती है.

-गुरुवार के दिन विष्णु जी की पूजा में दूध, दही और घी का इस्तेमाल जरूर करें.-गुरुवार के व्रत में दिन में एक ही बार भोजन करें. इसमें दूध से बने व्‍यंजनों से व्रत का पारण करें.

पूजा के नियम

इस व्रत को लगातार सात गुरुवार करने के बाद विधिवत उद्यापन करने से घर की अशांति और दोषों से मुक्ति मिलती है.

-गुरुवार के व्रत से सभी सुखों की प्राप्ति होती है. घर में सुख-समृद्धि का संचार होता है.

-गुरुवार के दिन बाल न कटाएं और न ही दाढ़ी बनवाएं. कपड़े और बाल धोना और घर से कबाड़ बाहर निकालना भी इस दिन वर्जित माना गया है.

-पूजा से एक दिन पहले यानी बुधवार की शाम को ही पूरे घर की साफ-सफाई कर लें. साफ-शुद्ध घर में ही पूजा करनी चाहिए.

-गुरुवार के दिन व्रत करने वाले के लिए नमक खाना वर्जित है. वह पीले खाद्य पदार्थों से बना आहार ही ले और एक ही वक्त खाना थाए.

-खाना पकाने में तेल की बजाए गाय के घी का इस्तेमाल बेहतर माना गया है. भगवान को अर्पित किए गए फल खुद न खाकर दान कर दें.

-मां लक्ष्मी और नारायण की साथ-साथ पूजा करें. केवल विष्णु भगवान की पूजा नहीं की जानी चाहिए, इससे वैवाहिक जीवन में कलह होता है.

Ask-a-Question-with-our-Expert-Astrologer-min

-मान्यता है कि गुरुवार के दिन केले के पेड़ की पूजा करना शुभ होता है. इससे भगवान बहुत प्रसन्न होते हैं.

-प्रसाद में चढ़ाए गए केलों को बच्चों में बांट देना चाहिए. इससे घर में खुशहाली आती है और हर किस्म का मानसिक तनाव भी दूर होता है.

गुरुवार की पूजा के बाद केसर का तिलक लगाएं और इसके बाद किसी भी शुभ काम की शुरुआत करें. इससे काम सफल जरूर होगा.

-अगर आर्थिक स्थिति में सुधार करना चाहते हैं तो गुरुवार के दिन सुबह नहाने के बाद तुलसी माता को गाय का कच्चा दूध अर्पित करें. इससे न केवल आर्थिक परेशानियां दूर होंगी, बल्कि रिश्ते भी मजबूत होंगे. अन्य खबरों के लिए इस लिंक पर क्लिक करें

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here