नाक के अंदर पड़ गया है मस्सा तो घबराएं नहीं अपनाएं ये उपाय, इंस्टेंट मिलेगा लाभ

नाक में मस्सा होना किसी भी इंसान के लिए परेशानियों का कारण बन सकता है। नाक में मस्सा होने के कारण सांस लेने में परेशानी होने के साथ-साथ सिरदर्द के साथ गंध कम आने की समस्या का सामना करना पड़ता है। इस समस्या से निजात पाने के लिए हम कई तरह के उपाय अपनाते हैं। लेकिन आप बिना साइड इफेक्ट के इस समस्या से नैचुरल तरीके से निजात पाना चाहते हैं तो स्वामी रामदेव द्वारा बताए गए उन उपायों को अपना सकते हैं।

Ask-a-Question-with-our-Expert-Astrologer-min

नाक में मस्सा होने का कारण

नाक में मस्सा सूजे हुए टिश्यू का एक नरम टुकड़ा होता है जो साइनस या नेजल कैविटी के अंदर हढ़ते है। नेजल नाक के पीछे की तरफ का हिस्सा होता है।

नाक के मस्से से निजात पाने के लिए कारगर उपाय
कपालभाति

कपालभाति को करने के लिए सबसे पहले सुखासन में बैठ जाएं और अब दोनों नथुना से गहरी सांस भीतर की ओर लें। फिर सांस को बाहर की तरफ छोड़ दें। इस प्राणायाम को 5 से 10 मिनट करें। आप चाहे तो धीरे-धीरे इसका समय बढ़ा सकते हैं। हर 5 मिनट के बाद 1 मिनट आराम करें। सामान्य व्यक्ति 3 बार 5-5 मिनट करें।

अनुलोम विलोम

सबसे पहले पद्मासन की मुद्रा में बैठ जाएं। अब दाएं हाथ की अनामिका और सबसे छोटी उंगली को मिलाकर बाएं नाक पर रखें और अंगूठे को दाएं वाले नाक पर लगा लें। तर्जनी और मध्यमा को मिलाकर मोड़ लें। अब बाएं नाक की ओर से सांस भरें और उसे अनामिका और सबसे छोटी उंगली को मिलाकर बंद कर लें। इसके बाद दाएं नाक की ओर से अंगूठे को हटाकर सांस बाहर निकाल दें। इस आसन को 5 मिनट से लेकर आधा घंटा कर सकते हैं।

सूत्रनेति

इस क्रिया के द्वारा शरीर का शुद्धिकरण के साथ नाक के मस्से से निजात पाने में मदद मिलेगी इस क्रिया के लिए पहले धागे का इस्तेमाल किया जाता है लेकिन अब यह आसानी से मेडिकल स्टोर में मिल जाता है। इस क्रिया में पहले इस सूत्र नेति को पानी से साफ करके नाक से धीरे-धीरे डाला जाता है जिसे मुंह से निकाला जाता है। मिर्गी के दौरे या अधिक चक्कर आते है तो सूत्र नेति को करने से बचें।

एक्यूप्रेशर प्वाइंट

नाक के अंदर मौजूद मस्सा से निजात पाने के लिए एक्यूप्रेशर प्वाइंट भी कारगर हो सकता है। इसके लिए रिंग फिंगर के टॉप पर 5 मिनट दबाएं।

rgyan app

नाक के अंदर पड़े मस्से से निजात पाने का आयुर्वेदिक उपाय

नाक के मस्से से निजात पाने के लिए इन 4 तेलों का क्रमवृद्ध तरीके से इस्तेमाल करे। सबसे पहले नाक में बादामरोगन, फिर अणु तेल उसके बाद श्रणबिंदु तेल और अंत में घर मौजूद सरसों का तेल डाल सकते हैं।
रात में रीठा, त्रिकुटा को पानी में भिगो दें और सुबह छानकर इसे धीरे से नाक में डाले।
5 बादाम, 5 काली मिर्च चबाकर खा लें। इससे लाभ मिलेगा।

अन्य खबरों के लिए इस लिंक पर क्लिक करें

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here